Shadow

अमेठी: अंग्रेजों के समय सेनानायक रहे 106 वर्ष के बुज़ुर्ग को लगा कोरोना का टीका

11 मई 1915 में जन्मे व्यक्ति को लगा कोरोना का टीका

अमेठी। कोरोना वैक्सीन बनाने वाले वैज्ञानिकों ने भी नहीं सोचा रहा होगा कि उनकी यह वैक्सीन कितने महत्वपूर्ण लोगों को लगाई जाएगी। जी हां आज हम बात कर रहे हैं अमेठी जनपद के सबसे बुजुर्ग व्यक्ति जो वर्तमान समय में 106 वर्ष के हैं।

उनको आज जनपद की प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भेंटुआ में कोरोना का टीका लगाया गया। इसमें सबसे खास बात यह रही है की इस बुजुर्ग व्यक्ति का नाम बृजपाल सिंह है और इनका जन्म सन 11 मई सन 1915 में हुआ था । इन्होंने अंग्रेजी हुकूमत के समय भारतीय सेना में नौकरी की थी और अंग्रेजों के समय में यह सेनानायक के पद पर कार्यरत थे। भारत में होने वाली आजादी की लड़ाई थी इन्होंने बहुत करीब से देखी थी । ब्रिटिश हुकूमत से लेकर आज तक इन्होंने पूरी दुनिया देख डाली और इसी बीच कोरोना नामक वैश्विक महामारी आई । हालांकि सीनियर सिटीजन के लिए जब से कोरोना की वैक्सीन दी जाने लगी तब से लगातार इस बुजुर्ग व्यक्ति का उत्साह बना रहा और अपने पुत्र तथा घरवालों से वैक्सीनेशन करवाने की जिद करता रहा । आज घर वालों ने कार पर बिठाकर उसको प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर गए जहां पर कार में बैठे बैठे ही स्वास्थ्य कर्मियों के द्वारा कोरोना वैक्सीन की प्रथम खुराक दी गई । कोरोना वैक्सीन का पहला डोज लगने के बाद बृजपाल ने बताया कि हमें किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं है । वहीं पर वैक्सीनेशन करने वाली सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी गुड़िया तिवारी ने बताया कि यह बाबा जी 106 वर्ष के हैं । इनको मैंने गाड़ी में ही आकर टीका लगाया क्योंकि यह अंदर तक जा नहीं सकते थे । लेकिन इसके बावजूद यह काफी उत्साहित थे। इतने बुजुर्ग व्यक्ति को टीकाकरण करके आज मैं खुद को गौरवान्वित महसूस कर रही हूं और बहुत ही अच्छा लग रहा है। बृजपाल सिंह के 64 वर्षीय पुत्र महेंद्र बहादुर सिंह ने बताया कि यह 106 वर्ष के हैं आज इनको कोरोना का टीका लगा हुआ है यह कई दिनों से बहुत जिद कर रहे थे। आज इनको जो टीका लगा है उसके लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं है। इस टीके से लोगों की उम्र बढ़ रही है मुझे बहुत अच्छा लग रहा है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *