Shadow

बीजेपी नेता पर कब्रिस्तान की ज़मीन पर कब्ज़ा करने का लगा आरोप, पीड़ित ने सपरिवार लगाई ख़ुद को आग

बीजेपी नेता पर कब्रिस्तान की ज़मीन कब्ज़ा करने का आरोप

 

कार्यवाही न होने पर 4 बच्चों सहित माँ बाप ने मौके पर लगायी खुद को आग

रिपोर्ट — संजय कुमार

कानपुर देहात में एक माँ बाप ने अपने 4 मासूम बच्चो पर मिट्टी का तेल डाल कर खुद को आग लगा ली गंभीर रूप से झुलसे माँ बाप और बच्चों को कानपुर के हैलट अस्पताल में भर्ती कराया गया है आरोप है कि स्थानीय बीजेपी नेता कब्रिस्तान की ज़मीन पर कब्ज़ा कर रहा था और पीड़ित परिवार कब्ज़ा नही होने देना चाहता था अधिकारी पीड़ित परिवार की सुन नही रहे थे लिहाज़ा आज निर्माण कार्य रुकवाने को लेकर पीड़ित ने सपरिवार आग लगा ली।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा किये गए भू माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई के दावे पर उस समय सबसे बड़ा झटका लगा,,, जब अपनी ज़मीन पर जबरन निर्माण को देख एक परिवार ने अधिकारियों के चक्कर लगाए और जब न्याय नही मिला तो घर के मुखिया ने पूरे परिवार के साथ उसी भूमि पर आत्मदाह करने का प्रयास किया। पीड़ित की जमीन पर भूमाफियाओं द्वारा कब्जा करते हुए निर्माण कार्य कराया जा रहा था। लेकिन ठीक समय पर गाँव वालों की नजर पूरे परिवार पर उस वक्त पड़ गयी। जब घर का मुखिया आग की लपटों में जल रहा था और उसकी पत्नी के साथ बच्चे जलते पिता के साथ लिपटे हुए थे। ह्रदय विदारक इस दृश्य को देख कुछ लोग आगे बढ़े और पूरे परिवार के शरीर पर लगी आग को बुझाने का काम किया। वहीं सूचना लगते ही पुलिस विभाग के साथ पूरे प्रशासनिक अमले के हाथ पॉंव फूल गए। मामला प्रदेश के कानपुर देहात के मूसानगर गाँव का है।

जहां गाँव किनारे एक कब्रिस्तान है और कब्रिस्तान के बगल में बची हुई भूमि कुछ लोगों के हिस्से में है जिसमें जलालुद्दीन के हिस्से में आने वाली भूमि पर गौसगंज निवासी विजय सोनी जबरन कब्जा करते हुए भवन निर्माण करा रहा था जिसकी शिकायत लेकर जलालुद्दीन जिले के सभी अधिकारियों के पास पहुंचा, लेकिन सभी ने जांच का हवाला देकर भूमाफिया पर किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की, वहीं जब जलालुद्दीन कानपुर देहात के डीएम दिनेश चंद्र के पास शिकायत लेकर पहुंचा तो जिलाधिकारी ने तत्काल प्रभाव से कार्रवाई के आदेश तो दे दिए, लेकिन मूसानगर पुलिस ने भूमाफिया के खिलाफ कार्रवाई नहीं की,,, जिस अन्याय से तंग आकर जलालुद्दीन ने कब्जा हो रही भूमि पर जाकर निर्माणाधीन भवन की छत पर जाकर अपने पूरे परिवार के साथ आग लगा ली, जिन्हें बचाने में सफलता तो प्राप्त कर ली गयी है, लेकिन जलालुद्दीन की हालत गंभीर बनी हुई है, वहीं उसके छोटे छोटे मासूम बच्चे और पत्नी भी बुरी तरह झुलस गए हैं, जिन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जलालुद्दीन का यह कदम साफ करता है कि भूमाफिया के नाम पर सिर्फ जांच का हवाला दे दिया जाता है,,, जिस पर सवाल उठता है कि क्या उत्तर प्रदेश का शासन सिर्फ बातों में कागजी कार्रवाई पूरा करता है,,, अगर नही तो यह क्या था,,, जिसपर अब चुप्पी साध ली गयी है।

https://www.youtube.com/watch?v=On-yrLjKQp8

अयोध्या: साकेत महाविद्यालय के छात्रों पर लाठियां भांज कर पुलिस ने खदेड़ भगाया

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *