Shadow

सम्पादकीय

LOCKDOWN की आहट बना गरीबों का सिरदर्द!, इन राज्यों में हुई वैक्सीन की कमी

LOCKDOWN की आहट बना गरीबों का सिरदर्द!, इन राज्यों में हुई वैक्सीन की कमी

उत्तर प्रदेश, एक्सक्लूसिव, खेल, ट्रेंडिंग, बाज़ार, मनोरंजन, राजनीति, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
देश में कोरोना संक्रमण के मामले जितनी तेजी से बढ़ रहे हैं उससे तो लोगों को मन में एक ही डर सता रहा है कि कहीं फिर से लॉकडाउन न लग जाए। तो वहीं गरीब सोचने लगा है कि कहीं फिर से न उसकी रोजी रोटी बंद हो जाए। क्योंकि अब से ठीक एक साल पहले जब लॉकडाउन लगा था तो न जाने कितने लोगों के रोजगार छिने थे और कितनों की भूख से मौत हो गई थी। अब जब एक साल बाद लोगों का इतनी बड़ी संख्या में वैक्सीनेशन हो चुका है तो वहीं फिर से कोरोना के वैसे ही आंकड़े आना हैरत में डालते हैं। देश में अब तक लगभग 8 करोड़ 31 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन लग चुकी है। तो वहीं कुछ ऐसे भी राज्य हैं जहां कोरोना वैक्सीन की शॉर्टिज देखने को मिल रही है। जिनमें हरियाणा, महाराष्‍ट्र, दिल्‍ली, छत्‍तीसगढ़, आंध्र प्रदेश और तेलांगना शामिल हैं। इत्तेफाख की बात ये है कि इन सभी राज्यों बीजेपी की सरकार नहीं है। तो ऐसे में एक सवाल ये भी उठता है कि क्...
शीतलहर का प्रकोप जारी, मौसम विभाग ने जारी की एडवाइजरी इतने दिनों तक रहेगी भीषण ठंड

शीतलहर का प्रकोप जारी, मौसम विभाग ने जारी की एडवाइजरी इतने दिनों तक रहेगी भीषण ठंड

उत्तर प्रदेश, एक्सक्लूसिव, ट्रेंडिंग, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
शीतलहर का प्रकोप जारी, मौसम विभाग ने जारी की एडवाइजरी इतने दिनों तक रहेगी भीषण ठंड लखनऊ। राजधानी सहित उत्तर प्रदेश में शीतलहर का प्रकोप लगातार जारी है। मौसम विभाग ने भी चेतावनी से भरी एक एडवाइजरी भी जारी की है। इसमें बताया गया है कि अगले 3 दिनों तक देश के कई राज्यों के भागों में शीत लहर का प्रकोप जारी रहेगा। मौसम के फिर बदलने के आशंका नजर आयेगी। देश के कुछ इलाकों में बारिश की संभावना है। उत्तर प्रदेश में इन दिनों सर्दी का प्रकोप जारी है। राज्य के कई जिलों में तापमान में गिरावट और कोहरा नजर आ रहा है. मौसम विभाग के अलर्ट के अनुसार अगले 4 से 5 दिन राजधानी लखनऊ समेत कई जिलों में शीतलहर चलने के आसार हैं.  मौसम विभाग के अनुसार उत्तर भारत के अलावा मध्य, पूर्वी, पश्चिमी और नॉर्थ ईस्ट के राज्यों के तमाम हिस्सों में घने कोहरे और शीत लहर चलने की संभावना है. घने कोहरे की चपेट में ...
प्रधान से लेकर ज़िला पंचायत अध्यक्ष पद के प्रत्याशियोंं को चुनाव में इतने रुपये करने होंगे खर्च..

प्रधान से लेकर ज़िला पंचायत अध्यक्ष पद के प्रत्याशियोंं को चुनाव में इतने रुपये करने होंगे खर्च..

उत्तर प्रदेश, ट्रेंडिंग, सम्पादकीय
प्रधान से लेकर ज़िला पंचायत अध्यक्ष पद के प्रत्याशियोंं को चुनाव में इतने रुपये करने होंगे खर्च https://www.youtube.com/watch?v=al-RZ47H52Q लखनऊ। प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की प्रक्रिया अब कुछ ही समय में शुरू होने वाली है। प्रधानी के चुनाव को लेकर लोग अब सक्रियता दिखाने लगे हैं। प्रधान पद से लेकर जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लाक प्रमुख से लेकर वार्ड मेम्बर तक के प्रत्याशियों की चुनाव खर्च को लेकर चर्चाएं बढ़ गई हैं। इस बार निर्वाचन आयोग ने कई बंदिशे भी लगा दी हैं। https://www.youtube.com/watch?v=al-RZ47H52Q ज़िला निर्वाचन विभाग को निर्वाचन आयोग ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर गाइड लाइन जारी कर दी है। चुनाव से पहले ही प्रधान से लेकर अन्य पदों तक के दावेदारों की चिंता बढ़ा दी है। हलांकि पंचायत चुनाव का नाम छोटा है लेकिन उसकी महत्ता किसी भी स्तर पर कम नहीं है। और खर्चा ज्यादा...
जनवरी में क्यों हो रही है गर्मी/ लखनऊ,वाराणसी सहित कई शहरों में टूटा वर्षों का रिकॉर्ड

जनवरी में क्यों हो रही है गर्मी/ लखनऊ,वाराणसी सहित कई शहरों में टूटा वर्षों का रिकॉर्ड

उत्तर प्रदेश, एक्सक्लूसिव, ट्रेंडिंग, राष्ट्रीय, लाइफ स्टाइल, सम्पादकीय
लखनऊ, वाराणसी सहित कई शहरों में टूटा वर्षों का रिकॉर्ड लखनऊ. जनवरी के शुरुआती दिनों को भीषण ठंड के लिए जाना जाता है। हर साल इस महीने भीषण ठंड में ठिठुरते हुए कई लोगों की दम तोड़ने की खबरे आती हैं। लेकिन इस बार मौसम आंख मिचौली खेल रहा है। जनवरी में ऐसा लग रहा है कि मानों मार्च का महीना चल रह हो। इस मौसम में लोग ठंड से बचने के लिए रजाई का सहारा लेने के बजाय, रजाई से दूर भागने लगे है। दिन का तापमान 30 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंचा हुआ है तो वहीं रात का तापमान 15 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंच जा रहा है। ऐसा हर साल नहीं होता था इसलिये यह चर्चा का विषय बना हुआ है। अब हर किसी की जुबान पर बस यही सवाल है कि क्या इस साल ठंड नहीं पड़ेगी? राजधानी लखनऊ में पिछले कई सालों में जनवरी के महीने में इतना ज्यादा तापमान नहीं दर्ज किया गया। बुधवार को लखनऊ में पिछले 10 सालों का रिकार्ड टूट गया। इस दिन राजधा...
महाराष्ट्र गवर्नर ने CM को लिखी चिट्ठी, धार्मिक स्थलों को खोलने की मांग

महाराष्ट्र गवर्नर ने CM को लिखी चिट्ठी, धार्मिक स्थलों को खोलने की मांग

राष्ट्रीय, सम्पादकीय
महाराष्ट्र में धार्मिक स्थलों को खोलने की मांग तेज हो गई है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) कार्यकर्ताओं ने अपनी मांगों को लेकर मंगलवार को मुंबई में प्रदर्शन किया. इसके अलावा शिरडी में साधु-संत अनशन पर बैठ गए हैं. वहीं, राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने सीएम उद्धव ठाकरे को चिट्ठी भी लिखी है. महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखकर धार्मिक स्थलों को खोलने के लिए कहा है. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने कहा कि 1 जून से आपने मिशन फिर से शुरू करने की घोषणा की थी, लेकिन चार महीने बाद भी पूजा स्थल नहीं खोले जा सके हैं. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने कहा कि यह विडंबना है कि एक तरफ सरकार ने बार और रेस्तरां खोले हैं, लेकिन दूसरी तरफ, देवी और देवताओं के स्थल को नहीं खोला गया है. आप हिंदुत्व के मजबूत पक्षधर रहे हैं. आपने भगवान राम के लिए सार्वजनिक रूप से अपनी भक्ति...
योगी की फ़िल्म सिटी से मुंबई के फिल्म माफियाओं में मचा हड़कंप

योगी की फ़िल्म सिटी से मुंबई के फिल्म माफियाओं में मचा हड़कंप

उत्तर प्रदेश, ट्रेंडिंग, मनोरंजन, सम्पादकीय
फाइल फोटो योगी की फ़िल्म सिटी से मुंबई के फिल्म माफियाओं में मचा हड़कंप लखनऊ। उत्तर प्रदेश में फिल्म निर्माण को बढ़ावा देने के लिए बनने वाली फिल्म सिटी की जगह तय हो गई है। उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा के यमुना अथॉरिटी एरिया में फिल्म सिटी का निर्माण 1 हज़ार एकड़ में किया जा रहा है। फिल्म जगत के कलाकारों के साथ बैठक कर सीएम योगी आदित्यनाथ ने फिल्म सिटी के स्वरूप पर विस्तार से चर्चा की थी। फिल्मसिटी की महत्ता के बारें में बताते हुए सीएम योगी ने कहा था कि भारत की पहचान की प्रतीक यूपी की फिल्म सिटी बनेगी. वहीं उत्तर भारत में फिल्म सिटी के निर्माण के ऐलान से भारत की आर्थिक राजधानी कही जाने वाले मुंबई के फिल्म माफियाओं में खलबली मच गई। उत्तर भारतीयों को सुलभ होंगे रोजगार के अवसर जेवर एयरपोर्ट एशिया का सबसे बड़ा हवाई अड्डा भी बनने जा रहा है। ऐसे में विदेशों से आवागमन की सुलभता का भी लाभ फिल...
किसान सुधार नहीं किसान विनाशक बिल है ये : शाश्वत जोशी

किसान सुधार नहीं किसान विनाशक बिल है ये : शाश्वत जोशी

उत्तर प्रदेश, बाज़ार, राजनीति, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
किसान सुधार नहीं किसान विनाशक बिल है ये : शाश्वत जोशी समाजवादी युवजन सभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शाश्वत जोशी ने कृषि विधेयक पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि केंद्र सरकार जिसको कृषि सुधार बिल कह रही हैं जबकि ये तीनो बिल कृषि सुधार नही बल्कि कृषि विनाश बिल हैं और समाजवादी पार्टी इसका पुरज़ोर विरोध करती है। तीनो बिल जो संसद से पास हो चुके हैं उनमें से एक कृषक उपज व्यारपार और वाणिज्यह (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक, 2020, और दूसरा कृषक (सशक्तिेकरण व संरक्षण) क़ीमत आश्वांसन और कृषि सेवा पर क़रार विधेयक, 2020 है। इन विधेयकों के ख़िलाफ़ किसान कई बार प्रदर्शन कर चुके हैं और इसको लेकर किसानों को केंद्र सराकार की ओर से भ्रमित किया जा रहा हैं। यह विधेयक धीरे-धीरे एपीएमसी (एग्रीकल्चर प्रोड्यूस मार्केट कमिटी) यानी मंडियों को ख़त्म कर देगा और फिर निजी कंपनियों को बढ़ावा देगा जिससे किसानों को उनक...
जानिये क्यों हो रहा है कृषि बिलों को लेकर संसद से सड़क तक विरोध ?

जानिये क्यों हो रहा है कृषि बिलों को लेकर संसद से सड़क तक विरोध ?

उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, ट्रेंडिंग, बाज़ार, राजनीति, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
फाइल फोटो  नई दिल्ली। इन दिनों लोकसभा में पेश हुए कृषि बिलों को लेकर संसद से सड़क तक हंगामा मचा हुआ है। जहां एक तरफ किसान सड़क पर आंदोलन कर रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ विपक्ष और सत्तापक्ष आमने-सामने हो गए हैं। सरकार का कहना है कि वह इस बिल के माध्यम से 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का सपना देख रही है तो वहीं विपक्ष इस बिल को किसान विरोधी बता रहा है इतना ही नहीं खुद एनडीए के मंत्रीमंडल में शामिल खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल इन बिलों के विरोध में इस्तीफा भी दे चुकी हैं। पूरे देश में विपक्ष के साथ साथ कई किसान संगठन भी इन बिलों के विरोध में आंदोलन कर रहे हैं। आइए जानते हैं कि बिल को लेकर पक्ष विपक्ष का क्या कहना है। UNLOCK-4: इन राज्यों में खोले जा रहे हैं स्कूल-कॉलेज, जानिये किन राज्यों ने किया खारिज.. क्या है बिल- सरकार का कहना है कि ये बिल किसानों के लिए वरदान है। इनक...
कृषि बिलों पर घमासान:भाजपा सरकार खेती को अमीरों के हाथों गिरवी रखना चाहती है – अखिलेश

कृषि बिलों पर घमासान:भाजपा सरकार खेती को अमीरों के हाथों गिरवी रखना चाहती है – अखिलेश

Breaking, अंतर्राष्ट्रीय, उत्तर प्रदेश, एक्सक्लूसिव, ट्रेंडिंग, बाज़ार, राजनीति, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
केंद्र सरकार ने तमाम विरोध के बावजूद कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए तीन बिलों को लोकसभा में पेश कराने के बाद पारित भी करा लिया। तीनों बिलों में लोकसभा में जबरदस्त संग्राम मचा। विपक्ष के साथ ही एनडीए की सहयोगी अकाली दल ने भी इस पर आपत्ति जताई। हालात इतने बिगड़े कि मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने इस्तीफा ही दे दिया। साथ ही देश भर में मोदी सरकार द्वारा लाये गए कृषि बिलों के विरोश में सुर उठना शुरू हो गए हैं।   समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा कि भाजपा सरकार खेती को अमीरों के हाथों गिरवी रखने के लिए शोषणकारी विधेयक लाई है. ये खेतों की मेड़ तोड़ने का षड्यंत्र है और साथ ही एमएसपी सुनिश्चित करनेवाली मंडियों के धीरे-धीरे खात्मे का भी. भविष्य में किसानों की उपज का उचित दाम भी छिन जाएगा और वो अपनी ही ज़मीन पर मज़दूर बन जाएँगे.   बहुजन सम...
यूपी: युवाओं के एक्शन से घबराई योगी सरकार, भर्ती शुरू करने का दिया आदेश

यूपी: युवाओं के एक्शन से घबराई योगी सरकार, भर्ती शुरू करने का दिया आदेश

Breaking, Uncategorised, अंतर्राष्ट्रीय, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, एक्सक्लूसिव, ट्रेंडिंग, बाज़ार, मनोरंजन, राजनीति, राष्ट्रीय, लाइफ स्टाइल, वीडियो, सम्पादकीय
यूपी: युवा के एक्शन से घबराई योगी सरकार, भर्ती शुरू करने का दिया आदेश लखनऊ : बेरोजगारी को लेकर सड़कों पर उतरे युवाओं की मुहिम का प्रदेश की योगी सरकार पर असर पड़ता दिखाई दे रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को लोकभवन में अफसरों के साथ बैठक की और सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों का ब्यौरा मांगा है और 21 सितंबर को सभी भर्ती आयोगों की बैठक बुलाई है, उन्होंने निर्देश दिया कि अब तक हुईं तीन लाख भर्तियों की तरह ही पारदर्शी तरीके से अगले तीन महीने में भर्ती प्रक्रिया शुरू करें और अगले छह महीने में नियुक्ति पत्र बांटें। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस प्रकार यूपी लोकसेवा आयोग और अन्य सरकारी भर्तियां हुई हैं उसी पारदर्शी व निष्पक्ष तरीके से सभी भर्तियां की जाएं। बता दें कि गुरुवार को युवाओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया। इस मौके पर उ...