Shadow

सम्पादकीय

किसान सुधार नहीं किसान विनाशक बिल है ये : शाश्वत जोशी

किसान सुधार नहीं किसान विनाशक बिल है ये : शाश्वत जोशी

उत्तर प्रदेश, बाज़ार, राजनीति, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
किसान सुधार नहीं किसान विनाशक बिल है ये : शाश्वत जोशी समाजवादी युवजन सभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शाश्वत जोशी ने कृषि विधेयक पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि केंद्र सरकार जिसको कृषि सुधार बिल कह रही हैं जबकि ये तीनो बिल कृषि सुधार नही बल्कि कृषि विनाश बिल हैं और समाजवादी पार्टी इसका पुरज़ोर विरोध करती है। तीनो बिल जो संसद से पास हो चुके हैं उनमें से एक कृषक उपज व्यारपार और वाणिज्यह (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक, 2020, और दूसरा कृषक (सशक्तिेकरण व संरक्षण) क़ीमत आश्वांसन और कृषि सेवा पर क़रार विधेयक, 2020 है। इन विधेयकों के ख़िलाफ़ किसान कई बार प्रदर्शन कर चुके हैं और इसको लेकर किसानों को केंद्र सराकार की ओर से भ्रमित किया जा रहा हैं। यह विधेयक धीरे-धीरे एपीएमसी (एग्रीकल्चर प्रोड्यूस मार्केट कमिटी) यानी मंडियों को ख़त्म कर देगा और फिर निजी कंपनियों को बढ़ावा देगा जिससे किसानों को उनक...
जानिये क्यों हो रहा है कृषि बिलों को लेकर संसद से सड़क तक विरोध ?

जानिये क्यों हो रहा है कृषि बिलों को लेकर संसद से सड़क तक विरोध ?

उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, ट्रेंडिंग, बाज़ार, राजनीति, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
फाइल फोटो  नई दिल्ली। इन दिनों लोकसभा में पेश हुए कृषि बिलों को लेकर संसद से सड़क तक हंगामा मचा हुआ है। जहां एक तरफ किसान सड़क पर आंदोलन कर रहे हैं तो वहीं दूसरी तरफ विपक्ष और सत्तापक्ष आमने-सामने हो गए हैं। सरकार का कहना है कि वह इस बिल के माध्यम से 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का सपना देख रही है तो वहीं विपक्ष इस बिल को किसान विरोधी बता रहा है इतना ही नहीं खुद एनडीए के मंत्रीमंडल में शामिल खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल इन बिलों के विरोध में इस्तीफा भी दे चुकी हैं। पूरे देश में विपक्ष के साथ साथ कई किसान संगठन भी इन बिलों के विरोध में आंदोलन कर रहे हैं। आइए जानते हैं कि बिल को लेकर पक्ष विपक्ष का क्या कहना है। UNLOCK-4: इन राज्यों में खोले जा रहे हैं स्कूल-कॉलेज, जानिये किन राज्यों ने किया खारिज.. क्या है बिल- सरकार का कहना है कि ये बिल किसानों के लिए वरदान है। इनक...
कृषि बिलों पर घमासान:भाजपा सरकार खेती को अमीरों के हाथों गिरवी रखना चाहती है – अखिलेश

कृषि बिलों पर घमासान:भाजपा सरकार खेती को अमीरों के हाथों गिरवी रखना चाहती है – अखिलेश

Breaking, अंतर्राष्ट्रीय, उत्तर प्रदेश, एक्सक्लूसिव, ट्रेंडिंग, बाज़ार, राजनीति, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
केंद्र सरकार ने तमाम विरोध के बावजूद कृषि क्षेत्र में सुधार के लिए तीन बिलों को लोकसभा में पेश कराने के बाद पारित भी करा लिया। तीनों बिलों में लोकसभा में जबरदस्त संग्राम मचा। विपक्ष के साथ ही एनडीए की सहयोगी अकाली दल ने भी इस पर आपत्ति जताई। हालात इतने बिगड़े कि मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने इस्तीफा ही दे दिया। साथ ही देश भर में मोदी सरकार द्वारा लाये गए कृषि बिलों के विरोश में सुर उठना शुरू हो गए हैं।   समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा कि भाजपा सरकार खेती को अमीरों के हाथों गिरवी रखने के लिए शोषणकारी विधेयक लाई है. ये खेतों की मेड़ तोड़ने का षड्यंत्र है और साथ ही एमएसपी सुनिश्चित करनेवाली मंडियों के धीरे-धीरे खात्मे का भी. भविष्य में किसानों की उपज का उचित दाम भी छिन जाएगा और वो अपनी ही ज़मीन पर मज़दूर बन जाएँगे.   बहुजन सम...
यूपी: युवाओं के एक्शन से घबराई योगी सरकार, भर्ती शुरू करने का दिया आदेश

यूपी: युवाओं के एक्शन से घबराई योगी सरकार, भर्ती शुरू करने का दिया आदेश

Breaking, Uncategorised, अंतर्राष्ट्रीय, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, एक्सक्लूसिव, ट्रेंडिंग, बाज़ार, मनोरंजन, राजनीति, राष्ट्रीय, लाइफ स्टाइल, वीडियो, सम्पादकीय
यूपी: युवा के एक्शन से घबराई योगी सरकार, भर्ती शुरू करने का दिया आदेश लखनऊ : बेरोजगारी को लेकर सड़कों पर उतरे युवाओं की मुहिम का प्रदेश की योगी सरकार पर असर पड़ता दिखाई दे रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को लोकभवन में अफसरों के साथ बैठक की और सरकारी विभागों में खाली पड़े पदों का ब्यौरा मांगा है और 21 सितंबर को सभी भर्ती आयोगों की बैठक बुलाई है, उन्होंने निर्देश दिया कि अब तक हुईं तीन लाख भर्तियों की तरह ही पारदर्शी तरीके से अगले तीन महीने में भर्ती प्रक्रिया शुरू करें और अगले छह महीने में नियुक्ति पत्र बांटें। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस प्रकार यूपी लोकसेवा आयोग और अन्य सरकारी भर्तियां हुई हैं उसी पारदर्शी व निष्पक्ष तरीके से सभी भर्तियां की जाएं। बता दें कि गुरुवार को युवाओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया। इस मौके पर उ...
जानिये लोकसभा में पारित किसान विधेयकों का आखिर क्यों हो रहा है विरोध

जानिये लोकसभा में पारित किसान विधेयकों का आखिर क्यों हो रहा है विरोध

Breaking, अंतर्राष्ट्रीय, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, एक्सक्लूसिव, ट्रेंडिंग, बाज़ार, राजनीति, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
जानिये लोकसभा में पारित किसान विधेयकों का आखिर क्यों हो रहा है विरोध लोकसभा में पारित कृषि से जुड़े तीन अहम विधेयकों का पंजाब से लेकर महाराष्ट्र तक विरोध हो रहा है. इन विधेयकों के विरोध में शिरोमणि अकाली दल से मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने मंत्री पद से इस्तीफा तक दे दिया. बीजेपी इन विधेयकों को किसानों के लिए क्रांतिकारी बता रही है, वहीं कांग्रेस और अन्य विपक्षी दल इन विधेयकों को किसानों के लिए नुकसानदह बता रहे हैं. आइए, हम आपको बताते हैं विधेयक में क्या खास है और क्यों इनका विरोध हो रहा है. लोकसभा में पारित हुए तीन कृषि विधेयक पहला - कृषि उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक 2020 दूसरा - मूल्य आश्वासन पर किसान (बंदोबस्ती और सुरक्षा) समझौता और कृषि सेवा विधेयक 2020 और तीसरा आवश्यक वस्तु संशोधन बिल पहले विधेयक के तहत- किसान मनचाही जगह पर फसल बेच सकते हैं. बिना किसी रुका...
राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर लगाया कोरोना वॉरियर्स के अपमान का आरोप

राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर लगाया कोरोना वॉरियर्स के अपमान का आरोप

Breaking, अंतर्राष्ट्रीय, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, एक्सक्लूसिव, राजनीति, राष्ट्रीय, लाइफ स्टाइल, सम्पादकीय
राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर लगाया कोरोना वॉरियर्स के अपमान का आरोप नई दिल्लीः कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी ने कोरोना वायरस महामारी को लेकर केंद्र को मोदी सरकार को आज फिर घेरा . उन्होंने सरकार पर हेल्थ वर्कर्स के अपमान करने का आरोप लगाया. राहुल गांधी ने ट्वीट किया ''प्रतिकूल डाटा-मुक्त मोदी सरकार! थाली बजाने, दिया जलाने से ज्यादा जरूरी हैं उनकी सुरक्षा और सम्मान. मोदी सरकार, कोरोना वॉरियर का इतना अपमान क्यों?'' राहुल गांधी का यह ट्वीट सरकार के संसद में दिये गये उस लिखित जवाब के बाद आया है जिसमें कोरोना से संक्रमित होने वाले और जान गंवाने वाले हेल्थ वर्कर्स का डेटा नहीं होने की बात कही है. अपने ट्वीट के साथ गांधी ने इससे जुड़ी एक खबर का लिंक भी शेयर किया. गुरुवार को राहुल गांधी ने सरकार पर रोजगार को लेकर हमला बोला था. नौकरी के आंकड़ों से जुड़ी एक न्यूज को शेयर करत...
अखिलेश यादव का भजपा सरकार पर वार, सत्ता के बचे हैं दिन चार

अखिलेश यादव का भजपा सरकार पर वार, सत्ता के बचे हैं दिन चार

Breaking, अंतर्राष्ट्रीय, उत्तर प्रदेश, एक्सक्लूसिव, ट्रेंडिंग, राजनीति, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
अखिलेश यादव का भजपा सरकार पर वार, सत्ता के बचे हैं दिन चार लखनऊ : बढ़ती महंगाई और बेरोजगारी के विरोध में सपा कार्यकर्ताओं के शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर सरकार ने लाठी उठाकर अच्छा नहीं किया। जब जवान भी खिलाफ, किसान भी खिलाफ, तब समझो दंभी सत्ता के दिन अब बचे हैं चार। यह बात समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव कहीं हैं. अखिलेश ने युवाओं के प्रदर्शन पर पुलिसिया जुल्म को घोर निंदा की। उन्होंने कहा कि  बेरोजगारी के कारण निराश युवाओं के साथ ऐसा व्यवहार सरकार की असंवेदनशीलता दर्शाता है। सपा के राष्ट्रीय सचिव व मुख्य प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने बताया कि बृहस्पतिवार को राजधानी लखनऊ में कई स्थानों समेत प्रदेश भर में प्रदर्शन किए। लखनऊ में गाड़ी में बुरी तरह ठूंसे गए नौजवानों पर निर्ममता से डंडे बरसाते देखा गया। उन्होंने बताया कि कानपुर में सैकड़ों युवा कार्यकर्ताओं ने घंटी, थाली पीट...
लेक्चरर से लेकर शिक्षा मंत्री रहे आर्य समाज के सन्यासी नेता स्वामी अग्निवेश..

लेक्चरर से लेकर शिक्षा मंत्री रहे आर्य समाज के सन्यासी नेता स्वामी अग्निवेश..

उत्तर प्रदेश, ट्रेंडिंग, राजनीति, राष्ट्रीय, लाइफ स्टाइल, सम्पादकीय
फाइल फोटो लेक्चरर से लेकर शिक्षा मंत्री रहे आर्य समाज के सन्यासी नेता स्वामी अग्निवेश.. सामाजिक और राजनैतिक मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखने वाले स्वामी अग्निवेश का शुक्रवार शाम दिल्ली के आईएलबीएस अस्पताल में निधन हो गया। स्वामी अग्निवेश के निधन पर उपराष्ट्रपति वैंकैय्या नायडू कांग्रेस नेता राहुल गांधी समेत कई नामचीन हस्तियों ने शोक व्यक्त किया। https://www.youtube.com/watch?v=hiaoDNgEIpo यूपी में 15 IAS अफसरों के हुए तबादले, आठ जिलों के DM हटाए गए, देखिये लिस्ट स्वामी अग्निवेश अपने जीवनकाल में सामाजिक के साथ राजनीतिक क्षेत्र में भी सक्रिय रहे। स्वामी अग्निवेश सामाजिक मुद्दों और सुधार जैसे मुद्दों पर अपनी बेबाक टिप्पणियों के लिए जाने जाते थे।स्वामी अग्निवेश का जन्म 21 सितम्बर 1939 को आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम में जन्म हुआ था। उनके पास कानून और कॉमर्स से जुड़ी डिग्रियां थी और वह स...
प्रणब दा विशेष : पत्रकार, प्रोफेसर, राजनेता जानिये किन किन रूपों में पूर्व राष्ट्रपति ने निभाई थी भूमिका

प्रणब दा विशेष : पत्रकार, प्रोफेसर, राजनेता जानिये किन किन रूपों में पूर्व राष्ट्रपति ने निभाई थी भूमिका

उत्तर प्रदेश, एक्सक्लूसिव, ट्रेंडिंग, राजनीति, राष्ट्रीय, सम्पादकीय
फाइल फोटो नई दिल्ली। कोरोना काल न केवल लोगों में दहशत लेके आया बल्कि इस भयानक वायरस ने कई चहेते लोगों को हमसे दूर भी कर दिया है। इसी फेहरिस्त में एक और नाम शामिल हो गया जब देश के पूर्व राष्ट्रपति और महान राजनेता प्रणब मुखर्जी का सोमवार को अस्पताल में निधन हो गया। उनका अंतिम संस्कार आज दोपहर करीब 2 बजे नई दिल्ली के लोधी रोड स्थित श्मशान घाट में किया जाएगा। प्रणब मुखर्जी के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी, राहुल गांधी, सीडीएस बिपिन रावत, संघ प्रमुख मोहन भागवत समेत सभी प्रमुख नेताओं ने पूर्व राष्ट्रपति को श्रद्धांजलि दी। प्रणब के निधन पर 7 दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का 84 साल की उम्र में हुआ निधन! क्लर्क रहे, कॉलेज में भी पढ़ाया पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्...
जन्माष्टमी : श्री कृष्ण की शिक्षा और ज्ञान हाल के समय के लिये है सुसंगत

जन्माष्टमी : श्री कृष्ण की शिक्षा और ज्ञान हाल के समय के लिये है सुसंगत

अंतर्राष्ट्रीय, उत्तर प्रदेश, ट्रेंडिंग, लाइफ स्टाइल, सम्पादकीय
फाइल फोटो जन्माष्टमी : श्री कृष्ण की शिक्षा और ज्ञान हाल के समय के लिये है सुसंगत भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद मास में कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रोहिणी नक्षत्र के दिन मध्यरात्रि को 12 बजे हुआ था। श्रीकृष्ण का जन्मदिन जन्माष्टमी के नाम से न केवल भारत में बल्कि नेपाल, अमेरिका सहित पूरे विश्वभर में मनाया जाता है। श्रीकृष्ण का अष्टमी तिथि के दिन जन्म होना ये दर्शाता है कि वे आध्यात्मिक और सांसारिक दुनिया में पूर्ण रूप से परिपूर्ण थे। श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव जेलों में विशेष धूमधाम से मनाया जाता है। वह माता देवकी और पिता वासुदेव की 8वीं संतान थे। जब आकाशवाणी हुई कि कंस की मृत्यु देवकी के 8वीं संतान के हाथों होगी। तो कंस ने अपनी बहन देवकी और बहनोई को कारागार में डाल दिया। और एक के बाद एक देवकी की सभी संतानों को मार दिया। लेकिन जब कृष्ण का जन्म मध्यरात्रि को हुआ तब कारागार के द्वार अपने...