Shadow

कोरोना से जंग में सीएम योगी का संदेश ‘हाथ धोना रोके कोरोना’

लखनऊ: कोविड 19 के महामारी बनने के बाद दुनिया भर में लोगों को हाथ धोने के फायदे और इसकी अहमियत पता चल गई है. हालांकि अंतरराष्ट्रीय तौर पर साफ-सफाई के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए पहले से ही ग्लोबल हैंडवॉश डे 15 अक्टूबर को मनाया जाता रहा है. साल 2020 में इस दिन का भारत ही नहीं दुनिया भर के लिए खास महत्व है. उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी प्रदेश में #HathDhonaRokeCorona हैशटैग के माध्यम से हैंड हाइजीन बनाए रखने की जरूरत और कोरोना से युद्ध में इसकी महत्ता के विषय में व्यापक स्तर पर जनजागरूकता कार्यक्रम का शुभारंभ किया है. उन्होंने अपनी हाथ धोते हुए तस्वीर ट्विटर पर शेयर करके जनता से अनुरोध किया है कि हाथ धोना रोके कोरोना मुहिम का हिस्सा बनें.

सीएम योगी आदित्यनाथ की पहल पर प्रदेश भर में विश्‍व हाथ धुलाई दिवस के मौके पर हजारों लोगों ने एक साथ हाथ धो राज्‍य सरकार ने इसको लेकर सभी विभागों को दिशा निर्देश जारी किया था. सभी के लिए स्‍वच्‍छ हाथ की थीम पर सुबह 10 से 12 बजे तक सभी सरकारी विभागों में सोशल डि‍स्‍टेंसिंग का पालन करते हुए मास्‍क के साथ अफसर और कर्मचारियों ने सामूहिक रूप से हाथ धुल कर स्‍वच्‍छता का संदेश दिया था.

राज्‍य सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के सभी कार्यालय व अस्पताल, स्कूल, आंगनवाड़ी केंद्र, पंचायती राज विभाग समेत सभी विभागों को ‘हैंड वाशिंग डे’ अभियान में अनिवार्य रूप से शामिल होने के निर्देश दिए हैं. योगी सरकार ने अभियान को जनपद, ब्लाक एवं ग्राम पंचायतों पर व्यापक रूप से आयोजित करने के निर्देश दिए हैं ताकि लोगों को हैंड वाशिंग के महत्व के बारे में जागरूक किया जा सके.

बताया जा रहा है कि तय कार्यक्रम के मुताबिक‍ सुबह 10 बजे से 12 बजे के बीच लोगों के समूह मास्क के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए साबुन से हाथ धोएं. अभियान में सभी कार्यालय, संस्थान, अस्पताल के अधिकारी व कर्मी और समुदाय के लोग एक ही समय पर सुबह 10 बजे समूह में हाथ धोने की प्रक्रिया का डेमो किया. जिसमें सभी की भागीदारी जरूरी होगी.

दस्तक कार्यक्रम के अंतर्गत, एएनएम, आशा, आंगनवाड़ी, स्कूल शिक्षक व एसएचजी के सदस्य समुदायों में 10 घरों का समूह बनाएंगे और डेमो दिया. साबुन से हाथ धोने के मुख्य 6 चरणों को सिखाने के साथ कोविड-19 महामारी संक्रमण काल में भोजन के पहले, नाक, मुंह व आँखों को छूने के बाद, खांसने एवं छींकने के बाद, शौच के बाद एवं शौचालय के उपयोग के पश्चात् सभी हाथ धोने के महत्‍व को समझाया.

प्रत्येक लेबर रूम स्वास्थ्य केन्द्र के वॉश बेसिन और हैंडवाशिंग स्टेशन को कोहनी से संचालित नल लगाने व साबुन के साथ कार्यात्मक बनाने के निर्देश दिए हैं. प्रत्येक स्वास्थ्य केन्द्र में नो टच, फुट ऑपरेटेड हैंड वाशिंग यूनिट स्थापित करने के साथ ही मीडिया एवं डिजिटल प्लेटफार्म के माध्यम से उपयोग के प्रचार के निर्देश दिए गए हैं.

अस्पतालों कैंपस, वेटिंग एरिया, पार्क आदि में टेलीविजन के माध्यम से हैंड वाशिंगव स्वच्छता से सम्बन्धित वीडियो के नियमित संचालन के निर्देश जारी किए गए हैं. हैंड-हाइजीन विषयक प्रशिक्षण, हैंड वाश का प्रदर्शन, स्‍वच्‍छता विषयक पोस्टर व निबंध प्रतियोगिता, वाद-विवाद प्रतियोगिता आदि का आयोजन कर आम लोगों को जागरूक करने के निर्देश राज्‍य सरकार ने दिए हैं.

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *