Shadow

Coronavirus : ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन से मिल सकती है बड़ी ख़ुशी

रूस की कोरोना वैक्सीन को लेकर दुनियाभर में चर्चा जोरों पर है। यहां के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने खुद ही 11 अगस्त को कोरोना वायरस की दुनिया की पहली वैक्सीन बना लेने की घोषणा की थी। इस वैक्सीन का नाम स्पूतनिक वी रखा गया है। हालांकि विश्व स्वास्थ्य संगठन समेत कई देशों ने इस वैक्सीन को लेकर आपत्ति जताई है। इस बीच ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा विकसित वैक्सीन को लेकर भी एक अच्छी खबर सामने आ रही है। फिलहाल इस वैक्सीन का मानव परीक्षण चल रहा है और इसी पर काम कर रही एस्ट्राजेनेका कंपनी का कहना है कि इसका मानव परीक्षण इसी साल नवंबर तक पूरा हो जाएगा। उसके बाद अगले साल यानी 2021 की शुरुआत में ही वैक्सीन का उत्पादन शुरू हो सकता है।

कंपनी का कहना है कि अगले साल लैटिन अमेरिकी देशों के लिए वैक्सीन की 40 करोड़ डोज का निर्माण किया जाएगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका ने वैक्सीन के लिए अब तक पांच कंपनियों से करार किया है, जिसमें एस्ट्राजेनेका और मॉडर्ना भी शामिल हैं। एस्ट्राजेनेका से उसने वैक्सीन की 30 करोड़ डोज के लिए करार किया है जबकि अन्य कंपनियों से भी 10-10 करोड़ का करार है।

भारत में भी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन बनाने के लिए एस्ट्राजेनेका कंपनी के साथ साझेदारी की है। इस वैक्सीन को ‘कोविशिल्ड’ नाम दिया गया है। देश में इसका बड़े पैमाने पर उत्पादन होगा।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *