Shadow

दलितों के मसीहा कहे जाने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री का हुआ निधन, दिग्गज नेताओं ने जताया शोक

दलितों के मसीहा कहे जाने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री का हुआ निधन

नई दिल्ली। दलितों के मसीहा कहे जाने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सरदार बूटा सिंह का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 86 वर्ष के थे। सरदार बूटा सिंह का जन्म पंजाब के जालंधर जिले के मुस्तफापुर गांव में 21 मार्च, 1934 को हुआ था। वे 8 बार लोकसभा के लिए चुने गए। प्रधानमंत्री मोदी और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने बूटा सिंह के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

सरदार बूटा सिंह ने भारत सरकार में केंद्रीय गृह मंत्री, कृषि मंत्री, खेल मंत्री और अन्य मंत्रालयों के कार्यभार के अलावा बिहार के राज्यपाल और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष के रूप में महत्वपूर्ण विभागों का संचालन भी किया। बता दें कि कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ दलित नेता सरदार बूटा सिंह को दलितों का मसीहा कहा जाता था।

सहारा हॉस्पिटल में डीएम अभिषेक प्रकाश ने ड्राई रन का किया निरीक्षण

बता दें कि जब साल 1977 में जनता पार्टी लहर के चलते कांग्रेस पार्टी बुरी तरह से हार गई थी और इस कारण पार्टी बंट गई थी, तो वहीं सरदार बूटा सिंह ने पूर्व पीएम इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाली कांग्रेस पार्टी का साथ दिया था। पार्टी के एकमात्र राष्ट्रीय महासचिव के रूप में कड़ी मेहनत करने के बाद पार्टी को 1980 में फिर से सत्ता में लाने के लिए उन्होंने अहम योगदान दिया था।

पीएम मोदी ने ट्वीट कर गहरा शोक जताया है। प्रधानमंत्री ने कहा, ”बूटा सिंह गरीबों और दलितों के कल्याण के लिए अनुभवी प्रशासक और प्रभावी आवाज थे। उनके निधन से दुखी हूं। बूटा सिंह के परिवार और समर्थकों के प्रति मेरी संवेदनाएं।”

वहीं कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा,”सरदार बूटा सिंह के देहांत से देश ने एक सच्चा जनसेवक और निष्ठावान नेता खो दिया है। उन्होंने अपना पूरा जीवन देश की सेवा और जनता की भलाई के लिए समर्पित कर दिया, जिसके लिए उन्हें सदैव याद रखा जाएगा। इस मुश्किल समय में उनके परिवारजनों को मेरी संवेदनाएं।”

बुलंदशहर में महिला दारोगा ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, 2015 बैच की एसआई

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *