Shadow

कोरोना की तीसरी लहर के डर के बीच बच्चों के लिए बड़ी खुशखबरी

देश में कोरोना महामारी की तीसरी लहर की आशंका के बीच बड़ी खुशखबरी आ रही है। दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के डायरेक्टर डॉ. रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि सितंबर महीने से 18 साल से कम उम्र के बच्चों को भी टीका लगाया जाने लगेगा। एक्सपर्ट्स अगस्त से अक्टूबर के बीच कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका जता रहे हैं। ऐसे में अगर सितंबर से बच्चों को वैक्सीन लगनी शुरू हो गई तो तीसरी लहर को बहुत हद तक टालने में मदद मिलेगी।

पूरा हो चुका है जायडस का ट्रायल

डॉ. गुलेरिया ने कहा कि सितंबर महीने में बच्चों को वैक्सीन लगाने का काम शुरू हो जाएगा। उन्होंने बताया, ‘मुझे लगता है कि जायडस कैडिला ने ट्रायल पूरा कर लिया है और उन्हें अब आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति मिलने का इंतजार है। भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का ट्रायल भी अगस्त या सितंबर में पूरा हो जाएगा और तब तक जायडस को अनुमति मिल जाएगी। फाइजर वैक्सीन को अमेरिकी दवा नियामक संस्थान एफडीए से अनुमति मिल चुकी है। संभवतः सितंबर तक हम बच्चों का टीकाककरण शुरू कर देंगे। यह संक्रमण की श्रृंखला तोड़ने के लिए लिहाज से बड़ी बात होगी।’ ध्यान रहे कि यूरोपियन यूनियन ने शुक्रवार को ही 12 से 17 साल तक के बच्चों के लिए मॉडर्ना की वैक्सीन को आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति दे दी। मई महीने में अमेरिका ने फाइजर-बायोएनटेक की वैक्सीन को 12 से 15 साल के बच्चों को लगाने की अनुमति दी थी।

बच्चों के लिए कोवैक्सीन भी लाइन में

एम्स डायरेक्टर का कहना है कि इन विदेशी टीकों से काम नहीं चलने वाला, इसलिए हमें अपनी वैक्सीन भी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘हमें अपनी देसी वैक्सीन भी चाहिए होगी, इसलिए भारत बायोटेक और जायडस कैडिला, दोनों ही महत्वपूर्ण हैं। फाइजर वैक्सीन से भी मदद मिलेगी क्योंकि सारे डेटा बताते हैं कि यह बच्चों के लिए सुरक्षित है… लेकिन हमें जितनी मात्रा में जरूरत होगी, उतनी मात्रा में फाइजर अपनी वैक्सीन उपलब्ध नहीं करवा सकेगा। उम्मीद है कि सितंबर तक बच्चों के लिए एक से ज्यादा वैक्सीन हमारे पास होगी।’ एक्सपर्ट की मानें तो 11 से 17 वर्ष के बच्चों को वैक्सीन लग जाने के बाद कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा से 18 से 30 प्रतिशत तक कम हो जाएगा।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *