Shadow

हरीश रावत ने अनोखे तरीके से डीजल की बढ़ती कीमतों का किया विरोध

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत ने सोमवार को बैलगाड़ी में चढ़कर एक अलग अंदाज में पेट्रोल-ड़ीजल की बढ़ती कीमतों का विरोध किया तथा एक शिव मंदिर में पूजा करके भगवान शंकर से केंद्र सरकार की ‘सदबुद्धि’ के लिए प्रार्थना की । उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रावत यहां रायपुर क्षेत्र में आर्डिनेंस फैक्टरी के गेट के निकट पहुंचकर पहले से तैयार एक बैलगाड़ी में बैठ गये। उनके साथ कुछ पार्टी कार्यकर्ता भी बैलगाड़ी में बैठ गये । इस दौरान रावत सहित सभी कार्यकर्ताओं ने सामाजिक दूरी का पालन करते हुए मुंह पर मास्क लगा रखे थे।

इस मौके पर कांग्रेस नेता रावत ने कहा कि पूरे विश्व में कच्चे तेल की कीमतें कम हो रही हैं लेकिन केन्द्र सरकार एक दर्जन से अधिक बार पेट्रोल, ड़ीजल व गैस के दामों को बढ़ा चुकी है जो परिवहन व्यवस्था, खेती किसानी व आटों उद्योग के लिये घातक सिद्ध हो रहा है । उन्होंने कहा कि पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों की बढ़ोत्तरी से आवश्यक वस्तुओं के दाम भी बेताहाशा बढ़ गये हैं जिससे कोरोना वायरस सकंट में पहले से ध्वस्त अर्थव्यवस्था और चौपट हो गयी है और आम आदमी की कमर भी टूट गयी है । बैलगाड़ी में बैठकर क्षेत्र के शिव मंदिर पहुंचे रावत ने कहा कि वह भोले बाबा के चरणों में यह प्रार्थना लेकर आये हैं कि केन्द्र सरकार में बैठे तमाम लोगों को सदबुद्धि आये।

उन्होंने कहा कि हमारे देश— प्रदेश के शीघ्र कोरोना वायरस मुक्त होने की भी उन्होंने प्रार्थना की। दूसरी तरफ, उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष प्रीतम सिंह के आह्वान पर प्रदेशभर में पार्टी कार्यकर्ताओं ने पेट्रोल, डीजल एवं रसोई गैस की कीमतों में लगातार हो रही बेतहाशा वृद्धि के विरोध में धरना-प्रदर्शन किए तथा मोदी सरकार के खिलाफ नारे लगाए । यहां प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित धरने में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि पिछले छह वर्षों में 2014 से लेकर जून 2020 तक मोदी सरकार ने देश की जनता की गाढ़ी कमाई के 80 लाख करोड़ रुपये ‘‘लूट’’ लिए हैं और कोरोना वायरस काल में पेट्रोल और डीजल के दामों को बढ़ाकर वैश्विक महामारी के दंश से दुखी जनता की कमर तोड़ दी है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *