Shadow

वैक्सीनेशन के लिए कैसे करें रजिस्ट्रेशन/ जानिये पूरी प्रक्रिया, प्राइवेट हॉस्पिटल भी है विकल्प

देश में कोरोना के कहर के बाद अब वैक्सीनेशन होने पर लोगों में राहत देखी जा रही है। वैक्सीनेशन का दूसरा चरण 01 मार्च से शुरू होगा, जिसमें 60 साल से अधिक उम्र के लोगों और 45 साल से अधिक उम्र के उन लोगों को वैक्सीन दी जाएगी, जो किसी बीमारी से ग्रस्त हैं। तीसरे चरण का वैक्सीनेशन अभियान सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ बड़े पैमाने पर प्राइवेट अस्पतालों के जरिए भी शुरू किया जाएगा। इतना ही नहीं, 1 मार्च से पैसे देकर भी टीका लगवाया जा सकता है।

प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में बुधवार को यह निर्णय लिया गया। बाद में जानकारी देते हुए कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद एवं सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि लोगों के पास यह विकल्प होगा कि वे टीकाकरण के लिए निजी एवं सरकारी अस्पतालों का चयन कर सकें।

दूसरे चरण में वैक्सीनेशन के लिए कैसे करें रजिस्ट्रेशन

वैक्सीनेशन के पहले चरण में, स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्करों को टीका लगाया गया। वहीं सरकार के पास वोटर लिस्ट के आधार पर वरिष्ठ नागरिकों का डेटा भी है। लेकिन यहां स्व पंजिकरण का विकल्प है।

स्व पंजिकरण का विकल्प केवल ऑनलाइन चैनलों तक ही सीमित नहीं होगा क्योंकि कई लोगों के लिए एप्स को इस्तेमाल करना आसान नहीं होगा। को-विन, आरोग्य सेतु के अलावा, अस्पतालों और कॉमन सर्विस सेंटरों में रजिस्ट्रेशन विंडो खोली जाएंगी। जिसके रजिस्ट्रेशन के लिए कोई शुल्क नहीं देना होगा।

बताया जा रहा है कि जल्द ही को-विन ऐप का एक नया संस्करण लॉन्च किया जाएगा, जिसके माध्यम से आम लोग टीकाकरण के लिए लॉग इन और रजिस्टर कर सकेंगे। अब वैक्सीन ले चुके लोग आईडी देकर अपना सर्टिफिकेट डाउनलोड कर सकते हैं।

साथ ही  60 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए पंजीकरण करने के लिए एक फोटो आईडी की आवश्यकता होगी। अन्य बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए, एक मेडिकल सर्टिफिकेट भी जरूरी होगा।

वहीं वैक्सीनेशन के इस चरण के लिए बुकिंग और ओपन स्लॉट दोनों होंगे।

लाभार्थी अपनी वैक्सीन साइट और समय को चुन सकते हैं लेकिन कोविशिल्ड और कोवैक्सीन के बीच कोई विकल्प नहीं दिया जाएगा। साथ ही 50 वर्ष से ऊपर के लोग जिन्हें कोई अन्य रोग नहीं है उन्हें टीके के लिए इंतजार करना होगा।

सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों एवं 20 हजार प्राइवेट अस्पतालों में दूसरे चरण का टीकाकरण अभियान चलेगा। जो लोग प्राइवेट अस्पतालों में टीका लगाना चाहेंगे, उन्हें इसके लिए शुल्क चुकाना होगा। यह शुल्क कितना होगा, इसे सरकार अगले तीन-चार दिनों में तय करेगी। इसके लिए टीका निर्माता, अस्पतालों से बातचीत कर निर्णय लिया जाएगा।

तमिलनाडु के CM की बड़ी घोषणा/ कक्षा 9, 10 और 11वीं के छात्र बिना परीक्षा के होंगे पास

भारत के इतिहास में पहली बार दी जाएगी महिला कै़दी को फांसी, प्रेमी के साथ मिलकर की थी परिजनों की हत्या

 

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *