Shadow

अब अडाणी का हुआ लखनऊ एयरपोर्ट, जानिये क्या क्या होने वाले है बदलाव

फाइल फोटो

अब अडाणी का हुआ लखनऊ एयरपोर्ट, जानिये क्या क्या होने वाले है बदलाव

लखनऊ। राजधानी का एयरपोर्ट जो चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट के नाम से जाना जाता है अब वह निजी हाथों में चला गया है। सोमवार को औपचारिक रूप से लखनऊ एयरपोर्ट को अडाणी समूह को सौंप दिया गया है। सीसीएस लखनऊ अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के निदेशक ए के  शर्मा ने लखनऊ में सीसीएस लखनऊ इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड के सीईओ एस सी होता और लखनऊ में अडाणी एयरपोर्ट्स के सीईओ बेहनाद ज़ांदी को एयरपोर्ट की कमान सौंप दी गई। निजी हाथों के प्रबंधन को लेकर के कुछ नियम बनाए गए हैं। जैसे कि शुरुआत के 3 सालों में  एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया और निजी समूह के बीच समन्वय बनाते हुए यह हस्तांतरण होगा। लखनऊ एयरपोर्ट की बात करें तो पहले साल एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के निदेशक के साथ में डेढ़ सौ एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के सीनियर एग्जीक्यूटिव और अडानी समूह का प्रबंधन रहेगा। इस प्रबंधन में प्रशासन से लेकर के वित्तीय मामलों के भी फैसले अडानी समूह ही लेगा।

गाज़ीपुर : बाहुबली मुख्तार अंसारी का शान गज़ल होटल किया गया ज़मीदोज़

बता दें कि लखनऊ एयरपोर्ट 1986 में बनकर तैयार हुआ जो अमौसी एयरपोर्ट के नाम से बना। 2008 में एयरपोर्ट का नाम बदलकर चौधरी चरण सिंह कर दिया गया। बताया जाता है कि हर साल लगभग 50 लाख से अधिक यात्री इसमें यात्रा करते हैं। एक आंकड़े के मुताबिक  लगभग 160 से अधिक हवाई जहाजों का संचालन होता है।

लखनऊ एयरपोर्ट में अब ये होंगे बदलाव

माना जा रहा है कि निजी हाथों में एयरपोर्ट इसलिए भी दिया गया है कि रखरखाव और उसके विकास के काम में तेजी आएगी। जिनमें कि लखनऊ एयरपोर्ट में निजी हाथों में जाने पर 1400 करोड़ के नए टर्मिनल बनेंगे ,टर्मिनल नंबर 3 का निर्माण होना है वही 8 एप्रन बनेंगे ,फायर फाइटिंग सिस्टम को भी बढ़ाया जाएगा अपग्रेड किया जाएगा । रनवे का विस्तार जो कि अभी 2700 मीटर है उसे 3500 मीटर किया जाएगा। सुविधाओं में समानांतर टैक्सी वे बनाने की योजना है। एयरपोर्ट की जो जमीन बाहर है  वहां पर मॉल होटल खोले जाएंगे और यह सभी सुविधाएं टर्मिनल बिल्डिंग के भी यात्रियो के लिए मुहैया होगी । माना जाता है कि निजी हाथों में जाते ही कई ऐसे टैक्स होते हैं जो बढ़ा दिए जाते हैं ,पर लखनऊ एयरपोर्ट की बात करें तो कम से कम अभी यात्रियों को यह राहत की खबर है कि किसी तरीके का शुल्क बढ़ाया नहीं गया है और यह दिल्ली एयरपोर्ट की तर्ज पर ही सुविधाएं बढ़ाने की तैयारी है।

लालबाग के ड्रैगन मॉल और ठाकुरगंज के हुक्का बार की इमारत हुई ध्वस्त, LDA VC की कार्रवाई से अवैध कब्जाधारियों में दहशत

निजी हाथों के प्रबंधन  सीआईएसफ जिन की तैनाती केंद्र सरकार की तरफ से एयरपोर्ट पर की जाती है जो सुरक्षा के लिहाज से जवाबदेह होते हैं यात्रियों के आने जाने उनके बोर्डिंग पास चेक करने इस तरह की ड्यूटी उनकी रहती है जिससे एयरपोर्ट के अंदर और बाहर और हवाई जहाज के अंदर की सुरक्षा मजबूत रहे इन सब को अब अडानी समूह को ही रिपोर्ट करना होगा।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *