Shadow

प्रतापगढ़ में सरकारी नहर को पाटकर दबंग भू माफियाओं ने बना दिए खेत, नहीं हुई कार्रवाई

सरकारी नहर को पाटकर दबंग भू माफियाओं ने बना दिए खेत, पानी को तरस रहे किसान
ने वालों पर अंकुश लगाने की वकालत की हो लेकिन यूपी के कई जिलों में सरकारी जमीनों पर बड़े पैमाने पर भूमाफियाओं के कब्जे हो गए हैं। ताजा मामला प्रतापगढ़ जिला का है। यहां करीब 4 किलोमीटर सरकारी नहर (नाला) पर भू- माफियाओं ने पहले बगीचा लगा दिया और फिर इसे खेत बनाकर कब्ज़ा कर लिया। अब क्षेत्र के किसान फसलों में पानी लगाने के लिए तरस रहे हैं। कई किसानों ने इसकी थाने में शिकायत की लेकिन पुलिस और स्थानीय प्रशासन आँखें बंद करके किसानों की बर्बाद हो रही फसलों को देख रहा है। कोई कार्रवाई ना होने से सीएम पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराई गई लेकिन अधिकारियों ने अपनी नाकामी छिपाने के लिये फर्जी आख्या लगा दी।  किसान परेशान है लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है।
सीएम को दिए गए शिकायती पत्र में चन्द्रकान्त गुप्ता,ग्राम सुजानगढ़,पोस्ट कांधरपुर,थाना कोहण्डौर,जिला प्रतापगढ़,तहसील पट्टी,ब्लॉक मंगरौरा ने कहा है कि हजारो किसानो की तरफ से यह शिकायत की गई है कि हमारे यंहा एक सरकारी नहर बनी हुई है उस नहर को चार किलोमीटर बाद कुछ बर्मा और मौर्या परिवारों ने नहर पर कब्जा करके उसको बगीचा बना दिया उसके आगे फिर नहर पर ब्राह्मण परिवार ने कब्जा करके खेत मे तब्दील करके नहर को गायब कर दिया है जिसकी वजह से नहर का पानी आगे ना जाकर किसानो की फसल का नुकसान करता है और किसानो के घरो मे नहर का पानी जाता है यह समस्या लगभग बीस सालो से है इन कुछ दबंग परिवारों की वजह से सालो से हजारो किसानो की फसल का नुकसान हो रहा है इसकी सिकायत पहले भी कई बार की गई है पर कोई कार्यवाही नही हुई। अभी इसकी सिकायत पिछले चार महीने से लगातार सी एम पोर्टल पर की जा रही है नहर बिभाग के अधिकारी को दबंग परिवार नहर को खोलने नही दे रहे है दबंग परिवार जे सी बी मसीन के नीचे लेट जा रहे है जिस से नहर की खुदाई रुक जाती है इसकी सूचना तहसील एस डी एम’श्री धीरेंद्र प्रताप सिंह’ को दी कि वो हमे पुरुस और महिला पोलिस बल प्रदान करे जिस से हम नहर को पूरा खुदवा सके लेकिन तहसील एस डी एम ने कहा हमारे पास इतना पुराना नहर का कागज नही है फिर इसकी सूचना डी एम रूपेश शर्मा जी को दी गई उन्होने कहा ठीक है देखते है लेकिन अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई फिर इसकी सूचना बी जे पी सांसद संगम लाल गुप्ता को दी गई कि हम किसानो की मदत करिये उन्होने ने भी इक कागज डी एम को भेज दिया बस उनका काम भी खत्म,ऐसे कर्मचारियो का क्या काम जो हम किसानो की मदत नहीं कर सकते पूरे चार महीने हो गये सिकायत करते जिसमे हजारो किसानो की धान की फसल नहर की पानी की वजह से खराब हो गई अब ये सरकारी कर्मचारी और नेता हजारो किसानो की गेंहू की फसल के साथ खेल रहे है क्यो कि इस सिकायत पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं की गई जिस से कि नहर को पूरा खुलवाया जा सके हजारो किसानो की गेंहू कि फसल डूबने से बच जाये। हम किसानो के साथ हमेसा ही खिलवाड़ होता आया है और हम किसानो के ऊपर सिर्फ राजनीति हुई है हम किसानो की मदत तो कभी मिली ही नहीं है जिसकी वजह से किसान बेचारे या तो आत्महत्या कर लेते है नहीं तो भूख के मारे मर जाते है वजह होती है हम किसानो की समय पर सुनवाई न होना।  पीड़ित किसानों ने सीएम से न्याय की गुहार लगाई है।
Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *