Shadow

तस्वीरें: साहब! रामगढ़ताल की खूबसूरती पर लग रहे ‘दाग’ अच्छे नहीं

तस्वीरें: साहब! रामगढ़ताल की खूबसूरती पर लग रहे ‘दाग’ अच्छे नहीं

गोरखपुर में विज़ुअल में आप देख सकते कि गोरखपुर में जुहू चौपाटी का दर्जा प्राप्त देखरेख के अभाव में फैली जलकुंभी से सीएम के ड्रीम प्रोजेक्ट और रामगढ़ताल की खूबसूरती पर दाग लग रहा है। ये दाग देखने में तो गंदे हैं ही संदेश भी खराब दे रहे। होली के अगले दिन बड़ी संख्या में बोटिंग करने पहुंचे सैकड़ों लोग ताल में फैली जलकुंभी देखकर निराश हुए।

वहीं, गोरखपुर विकास प्राधिकरण (जीडीए) का कहना है कि बार-बार की सफाई के बाद भी जलकुंभी खत्म नहीं हो रही। अब इसे विशेषज्ञ फर्म से सफाई कराने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए एक सप्ताह के अंदर टेंडर निकाला जाएगा।
दरअसल, पहले रामगढ़ताल की सफाई का काम जल निगम के पास था। हाल ही में जिल निगम ने ताल की देखरेख की जिम्मेदारी जीडीए को हैंडओवर कर दी। नया सवेरा और जेट्टी पर सबसे अधिक भीड़ जुटने से जीडीए प्राथमिकता के आधार पर सर्किट हाउस से लेकर जेट्टी तक जलकुंभी की सफाई कराता है।

मगर पूर्वी एवं उत्तर छोर पर सफाई नहीं होने से जब भी उधर से हवा चलती है तो पूरे ताल में जलकुंभी फैल जाती है। इससे प्राय: बोटिंग प्रभावित हो जाती है। मंगलवार को भी दोपहर तक बोटिंग प्रभावित रही। कुछ ही मोटर बोटों का संचालन हो पाया।

वही जीडीए उपाध्यक्ष आशीष कुमार ने कहा कि रामगढ़ताल की सफाई व देखरेख की जिम्मेदारी हाल ही में जल निगम से प्राधिकरण को मिली है। जलकुंभी की सफाई के लिए प्राधिकरण के पास प्रशिक्षित लोग और जरूरी संसाधन नहीं है। यही वजह है कि ऐसी फर्म जो बड़े-बड़े ताल में जलकुंभी सफाई का काम करती है, उससे रामगढ़ताल की सफाई कराने का निर्णय लिया गया है। इसी सप्ताह टेंडर निकाले जाएंगे। टेंडर अल्प समयावधि वाले होंगे ताकि शीघ्र जलकुंभी सफाई का काम शुरू कराया जा सके।
अब देखना यह दिलचस्प होगा की जीडीए उपाध्यक्षके दावे कितना धरातल पर उतरते है और गोरखपुर के लोगो कोगोरखपुर की जुहू चौपाटी को जल कुंभी से मुक्त देखेंगे।

https://www.youtube.com/watch?v=47vlMPiV4sk

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *