Shadow

कोरोना के डर से दूर बंगाल में चल रहा सियासत का खेल!/ EC Vs TMC Vs BJP

 

एक तरफ देश में कोरोना की दूसरी लहर ने दहशत मचा के रखी है तो वहीं दूसरी बंगाल में सियासत जोरों पर है। चुनाव आयोग ने दूसरी बार पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को नोटिस भेजा है। ममता बनर्जी पर आरोप है कि उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान केंद्रीय सुरक्षा बलों और बीएसएफ को लेकर गलत बयान दिया है। बता दें कि चुनाव आयोग ने नोटिस का जवाब 10 अप्रैल को 11 बजे तक देने के लिए कहा है।

चुनाव आयोग की दलील है कि, ममता बनर्जी ने मॉडल कोड के कई सेक्शन के साथ साथ कानून का उल्लंघन किया है। ममता ने अपने बयान के द्वारा आचार संहिता के साथ ही आईपीसी की धारा 186, 189 और 505 का उल्लंघन किया है। आयोग की माने तो बनर्जी जवाब नहीं देती हैं तो उन्के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

चुनाव आयोग के मुताबिक 28 मार्च और 7 अप्रैल को ममता बनर्जी के भाषणों में केंद्रीय बलों पर मतदाताओं को धमकाने का आरोप लगाया और महिलाओं को पीछे हटने या केंद्रीय बलों द्वारा ‘घेराव’का आरोप लगाया था।

ममता बनर्जी ने ये भी कहा है कि, “मैं केंद्रीय बलों का सम्मान करती हूं. लेकिन मेरे पास उन लोगों के लिए शून्य सम्मान है जो बीजेपी की कठपुतली हैं और माताओं और बहनों को डराने की कोशिश करते हैं, ताकि वे बीजेपी को वोट दें. उन्होंने चुनाव आयोग से कहा- “आप अमित शाह की बात मत सुनिए. हमारी बात भी मत सुनिए. लेकिन अपना काम ठीक से कीजिए.”

इससे पहले चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी के मुस्लिम वोट को न बंटने दे बयान पर एक्शन लेते हुए नोटिस भेजा था. इस नोटिस पर बनर्जी ने कहा था कि चुनाव आयोग कितने ही नोटिस भेज सकता है लेकिन वह अपने बयान पर कायम रहेंगी और धर्म के आधार पर मतदाताओं के विभाजन का विरोध करती रहूंगी.

चुनाव आयोग से मिले नोटिस के बाद ममता बैनर्जी ने भी बीजेपी पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने बीजेपी पर देश को बेचने का आरोप लगा दिया। इतना ही नहीं ममता यही नहीं रुकी उन्होंने कहा आपने ने मेरे बारें में राष्ट्रीय मीडिया से झूठ बोलने के लिए कहा है। बंगाल सीएम ने कहा- “जब उन्होंने हिन्दू-मुसलमानों के बारे में बात की तो नरेन्द्र मोदी और बीजेपी नेताओं के खिलाफ कोई शिकायत क्यों नहीं की गई? इससे पहले ममता बनर्जी के मुस्लिम वोट को न बंटने दे बयान पर एक्शन लेते हुए चुनाव आयोग ने नोटिस भेजा था। इस पर बनर्जी ने कहा था कि चुनाव आयोग कितने ही नोटिस भेज सकता है लेकिन वह अपने बयान पर कायम रहेंगी। खैर जो भी बंगाल में सियासत जोरों पर है। जहां देश में लोगों को कोरोना का डर सता रहा है तो वहीं कोरोना के डर से दूर बंगाल में सियासत के रोज रोज नए एपिसोड खेले जा रहे हैं।

सांसद रवि किशन ने लगवाया वैक्सीन का पहला डोज, लोगों से की ये अपील..

अमेठी: सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां, SBI गौरीगंज में लगी लोगों की लंबी कतारें

वैक्सीनेशन के बाद कोरोना होने पर आपकी बॉडी पर होगा ये असर, जानिये……

अमेठी: निर्वाचन कार्यालय में लगी भीषण आग, चुनाव के अहम दस्तावेज जलकर हुए ख़ाक़

LOCKDOWN की आहट बना गरीबों का सिरदर्द!, इन राज्यों में हुई वैक्सीन की कमी

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *