Shadow

सुशांत सिंह राजपूत की पहली पुण्यतिथि, फैंस अभी भी मांग रहे है Justice

जन्म कब लेना है,मरना कब है ये हम तय नहीं कर सकते,लेकिन कैसे जीना है ये तय कर सकते हैं..

ये लाइन सुशांत सिंह राजपूत द्वारा कही गई थी| सुशांत सिंह राजपूज (Sushant Singh Rajput) के निधन को आज एक साल पूरे हो गए हैं. एक साल बीत जाने के बाद भी उनके फैंस उन्हे भूले नहीं है, बल्कि अक्सर वो सोशल मीडिया पर ट्रेंड करते रहते हैं. उनकी पुरानी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होती रहती हैं.सुशांत सिंह राजपूत के निधन के एक साल बाद भी फैन्स उनके लिए इमोशनल है इसका कारण है सुशांत का अपने फैन्स से कनेक्ट रहना। दरअसल, सुशांत अपने पोस्ट पर फैन्स को रिप्लाई भी करते थे |

सुशांत की पहली पुण्यतिथि पर उनके फैंस एक बार फिर से उन्हें न्याय दिलाने की मांग में जुट गुए हैं. सोशल मीडिया पर जहां सभी सुशांत को श्रद्धांजलि दे रहे हैं तो वहीं उन्हें न्याय दिलाने के अभियान ने भी जोर पकड़ लिया है.वही बता दें की सुशांत की मौत पर जमकर राजनीति भी हुई. सुशांत की मौत की जांच मुम्बई पुलिस के अलावा बिहार पुलिस और फिर बाद में सीबीआई ने भी की. बाद में इस मामले की कड़ियों को जोड़ने के लिए एनफोर्समेंट डायरेक्टरेट (ईडी) और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) भी इस जांच से जुड़ गये.

गौरतलब है कि पिछले साल 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत की‌ मौत से महज 6 दिन पहले उनसे ब्रेक-अप करनेवाली उनकी एक्स-गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती पर सुशांत के करोड़ों रुपये हड़पने का आरोप लगा था. मगर ईडी को अपनी जांच में ऐसा कुछ नहीं मिला जिससे कहा जा सके कि रिया ने सुशांत के पैसों की‌ हेराफेरी की हो.

इस बीच, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी ने रिया और उनके भाई शौमिक चक्रवर्ती पर सुशांत के लिए ड्रग्स का इंतजाम करने और उन्हें खरीदने का इल्जाम लगाया था. इन आरोपों के तहत रिया को मुम्बई के भायखला जेल में एक महीने से भी ज्यादा वक्त गुजारना पड़ा था|

उल्लेखनीय है कि बाद में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर इस मामले की जांच सीबीआई के हाथों में आ गई थी. सीबीआई ने‌ नये सिरे से सुशांत की मौत की जांच तो‌ की मगर सीबीआई ने‌ महीनों बाद भी अब तक अपनी जांच के नतीजों को साझा नहीं किया है और न ही इस मामले में अब तक कोई चार्जशीट दाखिल की गई है.

https://youtu.be/gQw3M4Osfqk

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *