Shadow

Tag: सोशल डिस्टेंसिंग

गोरखपुर: कोरोना काल के बीच शुरू हुआ मतदान, जमकर उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

गोरखपुर: कोरोना काल के बीच शुरू हुआ मतदान, जमकर उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

उत्तर प्रदेश, ट्रेंडिंग
गोरखपुर में पहले चरण का मतदान जारी, मतदान केंद्रों पर लगी लंबी लाइन लोकेशन- गोरखपुर गोरखपुर। कोरोना काल के बीच उत्तर प्रदेश त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का आगाज हो गया है। पहले चरण के लिए गुरुवार को गोरखपुर सहित प्रदेश के 18 जिलों में मतदान शुरू हो गया। जहां एक ओर कोरोना संक्रमितों की संख्या बड़ी तेजी से बढ़ी हुई है तो वहीं मतदान के दौरान जमकर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां भी उड़ रही हैं प्रशासन के भी लोग मूकदर्शक बने हुए इसे देख रहे हैं। अब ऐसे में सवाल ये उठता है कि आखिर कैसे कोरोना की बढ़ती हुई रफ्तार को नियंत्रित किया जा सकेगा। जहां मतदान के लिए आये हुए लोग कोरोना संक्रमण से बेफिक्र होकर एक दूसरे से सटे जा रहे हैं तो वहीं कुछ के चेहरे से मास्क भी गायब हैं आश्चर्य की बात तो ये हैं कि बगल में खड़े हुए सुरक्षाकर्मी कोविड प्रोटोकॉल का पालन कराने में पूरी तरह लापरवाही बरत रहे हैं। और लोगों ...
LNV इंडिया की टीम ने RTPCR की जांच का किया रियलिटी चेक, आप भी देखिये..

LNV इंडिया की टीम ने RTPCR की जांच का किया रियलिटी चेक, आप भी देखिये..

उत्तर प्रदेश, ट्रेंडिंग
लखनऊ। राजधानी लखनऊ में राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल में LNV INDIA की टीम ने RTPCR की जांच का रियलिटी चेक किया जिसमें LNV INDIA की टीम दोपहर 5:05 बजे अस्पताल पहुंची जहां पर लंबी लाइन लगी हुवी थी जांच कराने वालों की किसी प्रकार का कोई भी सोशल डिस्टेंस नज़र नही आ रहा न ही साफ सफाई दिखी अस्पताल में अस्पताल में जहां पर टेस्टिंग हो रही है वहां पर टेस्ट किट डस्टबिन के बाहर नजर आ रही थी बड़ी लापरवाही सामने दिखाई दे रही थी पास में ही चेकअप कर रहे स्टाफ काम कर रहा था कोरोना के लेकर अस्पताल में लापरवाही देखने को मिली। एक ही बूथ पर RTPCR की टेस्टिंग की जा रही है। लोगों की बड़ी लापरवाही सामने आ रही है।...
ऐशबाग पहुंची यात्रियों से खचाखच भरी हुई ट्रेन, बढ़ा कोरोना संक्रमण का खतरा

ऐशबाग पहुंची यात्रियों से खचाखच भरी हुई ट्रेन, बढ़ा कोरोना संक्रमण का खतरा

उत्तर प्रदेश, ट्रेंडिंग
ऐशबाग पहुंची यात्रियों से खचाखच भरी हुई ट्रेन, बढ़ा कोरोना संक्रमण का खतरा लखनऊ। एक तरफ कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने कोहराम मचा के रखा हुआ है। जिसको लेकर राज्यों की सरकारें सख्त कदम उठा रही हैं। तो वहीं दूसरी तरफ कहीं ऐसा नजारा देखने को मिल रहा है जहां कोविड प्रोटोकॉल की जमकर धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। ऐसा ही नजारा लखनऊ के ऐशबाग जंक्शन में देखने को मिला। यात्रियों से खचाखच भरी मुंबई से गोरखपुर की लोकमान्य तिलक स्पेशल ट्रेन ऐशबाग स्टेशन पहुंची। इनमें ज्यादातर वे यात्री रहे जो लॉकडाउन के डर से मुंबई से यूपी पलायन कर रहे हैं। इतना ही नहीं खचाखच भरी ट्रेन के टॉयलेट में भी लोग बैठे रहे। लोगों के पास मास्क भी नहीं रहा तो वहीं सोशल डिस्टेंसिंग शब्द मानो उनके लिए अभिशाप हो। ट्रेन में इतनी भीड़ कि लोग खिड़कियों से अंदर घुंसने के लिए मजबूर हुए। अब रेलवे और आरपीएफ की इस बड़ी चूक से कोरोना और तेजी ...
अमेठी: सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां, SBI गौरीगंज में लगी लोगों की लंबी कतारें

अमेठी: सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां, SBI गौरीगंज में लगी लोगों की लंबी कतारें

उत्तर प्रदेश, ट्रेंडिंग
अमेठी। एक तरफ कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने दहशत फैला रखी है तो वहीं दूसरी तरफ कहीं कहीं बेखौफ होकर लोग कोविड प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ा रहे हैं। ताजा मामला अमेठी का है जहां पर पंचायत चुनाव में टेजरी का चालान जमा करने के लिए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया गौरीगंज में लोगों की लम्बी कतारें लग गईं। जिन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाईं। इस दौरान कोई भी मास्क नहीं लगाए हुए था और न ही प्रशासन इसे लेकर गंभीर दिखाई दे रहा है।...
अमेठी: खुले मिले स्कूल, सरकारी आदेशों की उड़ाई जा रही हैं धज्जियां

अमेठी: खुले मिले स्कूल, सरकारी आदेशों की उड़ाई जा रही हैं धज्जियां

उत्तर प्रदेश, करियर, ट्रेंडिंग
अमेठी। प्रदेश में लगातार कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है। जिसके कारण उत्तर प्रदेश सरकार ने कक्षा एक से कक्षा 8 तक के समस्त निजी एवं प्राथमिक विद्यालयों में पिछले 24 मार्च से ही अवकाश कर दिया था। जिसको लगातार बढ़ाया ही जा रहा है अभी तक यह अवकाश 31 मार्च तक के लिए था उससे पहले इसको बढ़ाकर 4 अप्रैल किया गया और अब फिर से 11 अप्रैल तक छोटे बच्चों के स्कूल पूरी तरह से बंद कर दिए गए हैं। क्योंकि सबसे ज्यादा खतरा छोटे बच्चे एवं बुजुर्ग व्यक्तियों को है। उनकी इम्युनिटी काफी कमजोर होती है। वहीं दूसरी ओर वैक्सीन 14 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए है। इसीलिए विशेष रूप से इनको सुरक्षित करने के लिए सरकार के द्वारा छुट्टियों को बढ़ाया जा रहा है। लेकिन सरकार के आदेशों को अब निजी विद्यालयों के प्रबंध तंत्र नहीं मान रहे हैं। खुलेआम सरकारी आदेशों की धज्जियां उड़ाई जा रही ह...