Shadow

Tag: Olympic

टोक्यो ओलंपिक : हॉकी में भारत की दूसरी जीत, स्पेन को 3-0 से दी पटखनी

टोक्यो ओलंपिक : हॉकी में भारत की दूसरी जीत, स्पेन को 3-0 से दी पटखनी

खेल, राष्ट्रीय
टोक्यो ओलंपिक में भारतीय हॉकी टीम ने पदक जीतने की उम्मीद बरकरार रखी है। भारत ने आज अपने तीसरे हॉकी मैच में जबरदस्त प्रदर्शन करते हुए स्पेन को एकतरफा मुकाबले में 3-0 से हरा दिया। मैच के दौरान भारत ने ताबड़तोड़ हॉकी खेली। टीम इंडिया के तेज आक्रमण और मजबूत रक्षा पंक्ति के आगे प्रतिद्वंदी स्पेन की एक न चली। भारत को इस मुकाबले में जीत दिलाने में रुपिंदर पाल और सिमरनजीत ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। टीम इंडिया की तरफ से रुपिंदर पाल ने दो और सिमरनजीत ने एक गोल दागा। इससे पहले भारत को दूसरे हॉकी मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 7-1 से शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा था। वहीं अपने पहले हॉकी मैच में भारतीय टीम ने न्यूजीलैंड पर जीत दर्ज की थी। पहले मुकाबले में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड को 3-2 से हराया था। स्पेन के खिलाफ भारत ने बिलकुल बदले अंदाज में हॉकी खेली। जहां दूसरे मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भा...
मोमिजी निशिया ने बस इतनी सी उम्र में ओलंपिक में रचा इतिहास

मोमिजी निशिया ने बस इतनी सी उम्र में ओलंपिक में रचा इतिहास

खेल
ओलंपिक में पहली बार स्‍ट्रीट स्‍केटबोर्डिंग के मुकाबले हो रहे थे। कोई मानेगा कि इस खेल में जो दो खिलाड़ी सर्वश्रेष्‍ठ साबित हुए हैं, उनकी उम्र 14 साल से भी कम है। 13 साल 330 दिन की मोमिजी निशिया ने अपने घर में हो रहे ओलंपिक खेलों में गोल्‍ड जीता है। ब्राजील की रेसा लील भी 13 साल की हैं, जिन्‍हें सिल्‍वर मेडल से मन भरना पड़ा। लील भले ही गोल्‍ड ना जीत पाई हों, मगर 85 सालों की सबसे युवा मेडलिस्‍ट बन गई हैं। इन दो धुआंधार खिलाड़‍ियों ने आखिरी मुकाबले से पहले ही तोक्‍यो ओलिंपिक में धूम मचा दी। तीसरे नंबर पर रहीं नयाकामा फूना की उम्र भी सिर्फ 16 साल है। स्‍केटबोर्डिंग उन चार खेलों में से एक है जो तोक्‍यो में पहली बार ओलंपिक का हिस्‍सा बन रहे हैं। इसके अलावा सर्फिंग, स्‍पोर्ट क्‍लाइमिंग और कराटे को भी ओलिंपिक में शामिल किया गया है। मकसद ओलिंपिक को युवा दर्शकों तक पहुंचाना है। पोडियम पर जो तीन ...
ओलंपिक में मीराबाई चानू ने रचा इतिहास, 21 साल का इंतजार किया खत्म

ओलंपिक में मीराबाई चानू ने रचा इतिहास, 21 साल का इंतजार किया खत्म

खेल
भारतीय महिला स्टार वेटलिफ्टर मीराबाई चानू (Mirabai Chanu wins Silver) ने तोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में सिल्वर मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है। मीराबाई ने 49 किलोग्राम वर्ग में पदक अपने नाम किया। मीराबाई चानू ने ओलंपिक खेलों की भारोत्तोलन स्पर्धा में पदक का भारत का 21 साल का इंतजार खत्म किया। चानू ने क्लीन एवं जर्क में 115 किग्रा और स्नैच में 87 किग्रा से कुल 202 किग्रा वजन उठाकर रजत पदक अपने नाम किया। मीराबाई 2017 में वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप (48 किलो) की चैंपियन बनी थीं। उन्होंने इस साल अप्रैल में में 86 किलो स्नैच और वर्ल्ड रेकॉर्ड 119 किलो वजन उठाकर खिताब जीता था। उन्होंने कुल 205 किलो वजन उठाकर ब्रॉन्ज मेडल जीता था। चानू के 2016 के रियो ओलंपिक निराशाजनक रहा था। लेकिन उसके बाद उन्होंने अपने खेल में लगातार सुधार किया। उन्होंने 2017 में वर्ल्ड चैंपियनशिप और 2018 में कॉमनवेल्थ में...