Shadow

ऊं ब्राह्मण महासभा द्वारा चंद्रशेखर आज़ाद के बलिदान दिवस पर साहित्यकारों को किया गया सम्मानित

लखनऊ। अमर शहीद पंडित चंद्र शेखर आजाद के 90वें बलिदान दिवस के अवसर पर शनिवार को ऊं ब्राह्मण महासभा द्वारा लखनऊ के ख्याति लब्ध ब्राह्मण कवियों एवं साहित्यकारों का सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य और पूर्व आईएएस अरविंद कुमार शर्मा मुख्य अतिथि, डॉक्टर नीरज बोरा विशिष्ट अतिथि रहे। कार्यक्रम का संचालन प्रख्यात कवि अमित अनपढ़ और सभा का आयोजन राष्ट्रीय अध्यक्ष धनंजय द्विवेदी एवं संरक्षक अनुराग पांडे द्वारा किया गया। कार्यक्रम में अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद को श्रद्धांजलि अर्पित कर उन्हें याद किया गया। देश की एकता और आत्म गौरव को बढ़ाने का संकल्प लिया गया। इस अवसर पर अरविंद कुमार शर्मा ने अपनी अतीत की यादों को याद करते हुए बताया कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय में पढ़ते समय तत्कालीन अल्फ्रेड पार्क जहां पर चंद्रशेखर आजाद ने अपना बलिदान दिया था जब वह उसके सामने से गुजरते थे तो रोमांचित हो जाया करते थे। शर्मा ने कहा कि उनकी गुलामी की दास्तां में जकड़े हुए भारत को आजाद करने के लिए दो महत्वपूर्ण चीजें हैं, जिसके लिए लोग लड़े, एक तो अंग्रेज हमारे देश की पुरानी व्यवस्था एवं संस्कृति को बर्बाद कर रहे थे। दूसरी ज्यादातर लड़ाइयां धर्म और ज्ञान की रक्षा के लिए होती थी। अंग्रेजों द्वारा हमारे ज्ञान को नष्ट किया जा रहा था। यह दोनों बातें थी जो क्रांतिकारियों को लड़ने के लिए प्रेरित करती थी। उन्होंने चंद्रशेखर आजाद के आजाद ही जिए हैं आजाद ही मरेंगे के नारे को याद करते हुए कहा कि हमें यह अवसर तो नहीं मिला कि आजादी के लिए शहीद हो, पर यह जरूर मिला है कि जिन मूल्यों और आजादी के लिए हमारे अमर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी शहीद हुए हैं उन मूल्यों की रक्षा के लिए हम जिए। उन्होंने वर्तमान परिदृश्य को जोड़ते हुए कहा कि देश और प्रदेश का विकास ही प्रधानमंत्री की प्रतिबद्धता है और इसी कारण से हम इस प्रदेश और राजनीतिक क्षेत्र में सेवा के लिए आए हैं। ब्राह्मणों ने यज्ञ और ज्ञान के माध्यम से देश को संस्कारित करने का कार्य किया है।

इस अवसर पर उन्होंने ब्राह्मण समाज के साहित्यकारों व प्रमुख व्यक्तियों को माल्यार्पण और अंग वस्त्र प्रदान कर सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि अरविंद कुमार शर्मा का माल्यार्पण कर स्वागत किया गया।  इसके बाद मुख्य अतिथि द्वारा ख्यातिलब्ध साहित्यकारों ब्राह्मण साहित्यकारों शरद मिश्रा, अजय कुमार द्विवेदी, राम प्रकाश शुक्ला, रंगनाथ मिश्र, अशोक पांडे, हौसला प्रसाद त्रिपाठी, कुमार तरल, अनिल किशोर शुक्ला, मनु बाजपेई, प्रवीण कुमार शुक्ला, अमित अनपढ़, देवेश द्विवेदी, इंदु प्रकाश द्विवेदी, तेज नारायण पांडे, सूर्य कुमार पांडे का सम्मान माल्यार्पण कर और अंग वस्त्र व स्मृति चिन्ह भेंट कर किया गया।  कार्यक्रम को प्रख्यात कवि सूर्य कुमार पांडे, अजय कुमार द्विवेदी, तेज नारायण पांडे, अतुल मिश्रा आदि ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रीय अध्यक्ष धनंजय द्विवेदी ने सभी के प्रति अपनी कृतज्ञता व धन्यवाद ज्ञापित करते हुए किया। साथ ही कार्यक्रम में मुख्य रूप से वैभव गौतम, इंजीनियरिंग पांडे, सीमा मिश्रा, कृष्णा तिवारी, श्वेता शुक्ला, मंजू शुक्ला, सुभाष मणि त्रिपाठी, रमेश मिश्रा, वीरेंद्र शुक्ला, अभय पंडित, अरविंद कुमार शुक्ला, कमलेश मिश्रा, वंदना बाजपेई सहित सैकड़ों गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।

 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *