Shadow

योगी की फ़िल्म सिटी से मुंबई के फिल्म माफियाओं में मचा हड़कंप

फाइल फोटो

योगी की फ़िल्म सिटी से मुंबई के फिल्म माफियाओं में मचा हड़कंप

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में फिल्म निर्माण को बढ़ावा देने के लिए बनने वाली फिल्म सिटी की जगह तय हो गई है। उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा के यमुना अथॉरिटी एरिया में फिल्म सिटी का निर्माण 1 हज़ार एकड़ में किया जा रहा है। फिल्म जगत के कलाकारों के साथ बैठक कर सीएम योगी आदित्यनाथ ने फिल्म सिटी के स्वरूप पर विस्तार से चर्चा की थी। फिल्मसिटी की महत्ता के बारें में बताते हुए सीएम योगी ने कहा था कि भारत की पहचान की प्रतीक यूपी की फिल्म सिटी बनेगी. वहीं उत्तर भारत में फिल्म सिटी के निर्माण के ऐलान से भारत की आर्थिक राजधानी कही जाने वाले मुंबई के फिल्म माफियाओं में खलबली मच गई।

उत्तर भारतीयों को सुलभ होंगे रोजगार के अवसर
जेवर एयरपोर्ट एशिया का सबसे बड़ा हवाई अड्डा भी बनने जा रहा है। ऐसे में विदेशों से आवागमन की सुलभता का भी लाभ फिल्म सिटी को मिलेगा। भारत के दिल यानी की दिल्ली के समीप होने से फिल्मसिटी का लाभ सभी निकटवर्ती राज्यों को मिलेगा। इनमें उत्तर प्रदेश के साथ-साथ दिल्ली, उत्तराखंड, हरियाणा, राजस्थान और मध्यप्रदेश के भी निवासियों को फिल्मसिटी का लाभ मिलेगा। इससे यहां पर रहने वालों लाखों की संख्या में लोगों को रोजगार उपलब्ध होगा। जो कभी काम की तलाश में दक्षिण भारत के राज्यों और विदेशों में जाते थे। सीएम योगी ने कहा कि जेवर में फिल्म सिटी बनने से नई दिल्ली, नोएडा, आगरा, मथुरा और अन्य जगहों से अच्छी कनेक्टिविटी हो जाएगी. मुंबई में चल रहे सियासी ड्रामें के बीच मुख्यमंत्री ने कहा था कि देश को एक बेहतर फिल्म सिटी की जरूरत है और उत्तर प्रदेश यह जिम्मेदारी उठाने के लिए तैयार है. सीएम योगी के ऐलान पर शिवसेना ने कहा कि फिल्मसिटी बनाना तो आसान है लेकिन चलाना मुश्किल है।

अनिल अंबानी का ब्रिटेन की अदालत में बयान सहित पढ़िये देश दुनिया की पांच बड़ी खबरें

अब मुंबई जाकर नहीं करना पड़ेगा भेदभाव का सामना
उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी की स्थापना को लेकर अभी से सभी में उत्साह देखने को मिल रहा है। देश की सबसे भव्य फिल्म सिटी का निर्माण नोएडा में होने जा रहा है। उत्तर भारत से हिंदी पट्टी से लाखों युवा मुंबई कुछ कर गुजरने का सपना लेकर जाते रहे है। शकील बदायूं, गोपालदास नीरज, अमिताभ बच्चन, मुजफ्फर अली और अनुपम बख्शी सहित कई नाम हैं जिन्होंने फिल्म जगत में नाम कमाया। कलाकारों का कहना है कि जब यहां पर फिल्म सिटी बन जाएगी तो अब यहां के युवाओं को बाहर नहीं जाना पड़ेगा। यहां से जाने वाले संघर्षशील कलाकार मुंबई में राजनीतिक कारणों से लाठियां खाते रहे हैं। अब इसके निर्माण से उन्हें विशेष लाभ मिलेगा। वहीं स्थानीय कलाकारों को अपनी कला को निखारने और उसे लोगों के समक्ष प्रस्तुत करने के लिए अब किसी प्रकार के भेदभाव का सामना नहीं करना पड़ेगा।

विश्व में देखी जाएगी भारतीय संस्कृति की झलक
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि यूपी भारतीय संस्कृति का केंद्रबिंदु रहा है। इसके अंदाजा यहां की सांस्कृतिक विरासत से लगाया जा सकता है। उत्तर प्रदेश की प्रसिद्ध लोक संस्कृति का आंकलन इस बात से लगाया जा सकता है जब यहां की धार्मिक पृष्ठभूमि के दो धारावाहिक रामायण और महाभारत न सिर्फ सबसे अधिक देखे गए। बल्कि संपूर्ण जनमानस में चारित्रिक आस्था को भी जन्म दिया। इन दोनों धारावाहिकों से लोगों का जुड़ाव ऐसा देखने को मिला जिसने समाज पुरानी संस्कृति को नवीनता में पिरो दिया। अब यहां फिल्म सिटी के निर्माण से भारतीय संस्कृति की झलक पूरे विश्व में देखी जा सकती है।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *